Placeholder canvas

हवाई जहाज में जन्म लेने बच्चे का क्या होगा जन्म स्थान और किस देश की मिलेगी नागरिकता, जानिए यहां

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग लंबी दूरी की यात्रा के लिए हवाई जहाज का सहारा लेते हैं। कई बार ऐसा होता है कि हवाई यात्रा के दौरान गर्भवती महिलाएं प्रसव पीड़ा से गुजरती हैं और हवाई जहाज में ही बच्चे को जन्म देती हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि इन बच्चों की नागरिकता क्या होगी?

इस सवाल का जवाब दुनिया के अलग-अलग देशों के कानूनों में अलग-अलग है। कुछ देश जन्म स्थान के आधार पर नागरिकता देते हैं, तो कुछ देश माता-पिता की नागरिकता के आधार पर।

भारत में जन्म स्थान के आधार पर नागरिकता

भारत में जन्म स्थान के आधार पर नागरिकता दी जाती है। अगर कोई महिला भारत से दूसरे देश जा रही है और हवाई यात्रा के दौरान बच्चे को जन्म देती है, तो बच्चे का जन्म स्थान भारत माना जाएगा। ऐसे में बच्चे को भारतीय नागरिकता मिल सकती है। हालांकि, भारत में दोहरी नागरिकता पर प्रतिबंध है। इसलिए, बच्चे को अपने माता-पिता की नागरिकता भी मिल सकती है, लेकिन दोनों में से एक ही नागरिकता चुननी होगी।

ये भी पढ़ें- दुबई में सोने के दाम में आयी भारी गिरावट, खरीदने से पहले फटाफट चेक करें भारतीय रुपए में ताजा रेट

अमेरिका में जन्म स्थान के आधार पर नागरिकता

अमेरिका में जन्म स्थान के आधार पर नागरिकता दी जाती है, लेकिन अगर बच्चा अटलांटिक महासागर के ऊपर उड़ते हुए विमान में पैदा होता है, तो उसे अमेरिकी नागरिकता मिल सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि अमेरिकी कानून के मुताबिक, अगर कोई बच्चा अमेरिकी सीमा के अंदर पैदा होता है, तो उसे अमेरिकी नागरिकता मिलती है।

अन्य देशों में माता-पिता की नागरिकता के आधार पर नागरिकता

कुछ अन्य देशों में माता-पिता की नागरिकता के आधार पर नागरिकता दी जाती है। उदाहरण के लिए, अगर कोई महिला ब्रिटेन से दूसरे देश जा रही है और हवाई यात्रा के दौरान बच्चे को जन्म देती है, तो बच्चे को ब्रिटिश नागरिकता नहीं मिलेगी, क्योंकि वह ब्रिटेन की सीमा के अंदर पैदा नहीं हुआ है। हालांकि, अगर बच्चे के माता-पिता दोनों ब्रिटिश नागरिक हैं, तो बच्चे को ब्रिटिश नागरिकता मिल सकती है।

हवाई जहाज में जन्म लेने वाले बच्चों की नागरिकता को लेकर कोई अंतरराष्ट्रीय कानून नहीं है

हवाई जहाज में जन्म लेने वाले बच्चों की नागरिकता को लेकर कोई अंतरराष्ट्रीय कानून नहीं है। इसलिए, हर देश अपने हिसाब से इन बच्चों की नागरिकता तय करता है।

इन सबटाइटलों का उपयोग करके, हम आलेख को अधिक सुसंगत और समझने में आसान बना सकते हैं। वे आलेख के मुख्य बिंदुओं को उजागर करते हैं और पाठक को यह समझने में मदद करते हैं कि आलेख किस बारे में है।

ये भी पढ़ें- पैट कम‍िंंस बने आईपीएल नीलामी के सबसे महंगे खिलाड़ी, 20.50 करोड़ देकर जानिए किस टीम ने खरीदा

Leave a Comment