Placeholder canvas

दुबई में भारतीय महिला प्रवासी की रातों रात पलटी किस्मत, इनाम में जीत लिए 8 करोड़ 31 लाख रुपए

दुबई में भारतीय महिला प्रवासी और शेख सौद बिन साकर अल कसीमी फाउंडेशन फॉर पॉलिसी रिसर्च में काम करने वाली शबाना उन्नी ने 2 दिसंबर को एक-मिलियन-डॉलर ( करीब 8 करोड़ 31 लाख रुपए)यूनियन डे ग्रैंड प्राइज़ जीता। यह जीत उनके लिए एक जीवन बदलने वाली घटना थी।

शबाना उस दिन अपने बच्चों के साथ एक फिल्म देखने के लिए तैयार हो रही थीं, जब उन्हें आइडियल्ज से एक फोन कॉल आया। फोन कॉल करने वाले ने उन्हें बताया कि वे यूनियन डे ग्रैंड प्राइज़ की विजेता हैं। शबाना को इस बात पर यकीन नहीं हुआ कि वह वास्तव में एक करोड़पति बन गई हैं। उन्होंने कॉल को कई बार दोबारा चेक किया।

शबाना की मां ने भी इस कॉल को सुना और उन्हें बधाई दी। शबाना के लिए यह एक बहुत ही खुशी का पल था।

बच्चों के भविष्य के लिए करेंगी पैसों की उपयोग

शबाना का कहना है कि वह इस पैसे का उपयोग अपने बच्चों की शिक्षा और भविष्य के लिए करेंगी। वह एक व्यवसाय भी शुरू करना चाहती हैं।

गौरतलब है कि शबाना की मां ने पहले आइडियल्ज ड्रॉ में 1,000 दिरहम जीते थे, जिससे शबाना को भी भाग लेने के लिए प्रेरित किया। शबाना ने पिछले छह महीनों से ड्रॉ में भाग लिया है और अब तक 1,500 दिरहम मूल्य के उत्पादों के लिए खरीदारी की है।

शबाना एक एकल माँ हैं और अपने बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने और उन्हें गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करने के लिए उत्सुक हैं। वह अपने जीत के एक हिस्से को चैरिटी को भी दान करना चाहती हैं।

शबाना ने कहा कि वह अपनी जीवनशैली को अपरिवर्तित रखेंगी और हमेशा विनम्र और कृतज्ञ रहेंगी।

शबाना ने कहा कि पूरे परिवार का ध्यान रखना उनके लिए कठिन था, लेकिन उन्होंने कभी भी हार नहीं मानी। उन्हें राहत है कि अब उनके पास अपने परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए अच्छे साधन हैं।

शबाना ने कहा कि वह ड्रॉ में भाग लेना जारी रखेंगी।

शबाना ने सलाह दी है कि चुनौतियों का सामना करते समय आशा नहीं खोएं। उन्होंने प्रार्थना और प्रकटीकरण के माध्यम से दृढ़ता की प्रोत्साहन की है।

Leave a Comment