Placeholder canvas

Ram Mandir: गर्भगृह में आ गए राम भगवान… प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान, मोदी-भागवत-योगी बने यजमान

प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान, मोदी-भागवत-योगी-आनंदी बेन यजमान

आखिरकार वह घड़ी आ गई है, जब अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होगी। 500 वर्षों के इंतजार के बाद आज प्रभु श्रीराम अपने भव्य और दिव्य मंदिर में विराजने जा रहे हैं। इसलिए अयोध्या नगरी को हजारों क्विंटल फूलों से दुल्हन की तरह सजाया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी समेत संत समाज और अति विशिष्ट लोगों की उपस्थिति में रामलला के श्रीविग्रह की प्राण प्रतिष्ठा का ऐतिहासिक अनुष्ठान आज संपन्न होने जा रहा है। प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए चौदह जोड़े यजमान होंगे। एक दिन बाद यानी 23 जनवरी से मंदिर को आमजनके लिए खोल दिया जाएगा। बता दें कि मैसूर के फेमस मूर्तिकार अरुण योगीराज ने भगवान राम की ऐतिहासिक प्रतिमा बनाई है। नई 51 इंच की मूर्ति को गुरुवार को मंदिर के गर्भगृह में रखा गया था। इस भव्य आयोजन पर आज हम दिनभर नजरें बनाए रखेंगे।

प्राण प्रतिष्ठा समारोह का प्रारंभ

प्राण प्रतिष्ठा समारोह दोपहर 12 बजे से शुरू हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री महंत नृत्यगोपाल दास, राज्यसभा सांसद महंत अखिलेश्वरनाथ, राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास त्रिपाठी, महासचिव चंपत राय, ट्रस्ट के सदस्यों और संतों ने सबसे पहले रामलला की मूर्ति का अभिषेक किया। इसके बाद यज्ञ और अन्य धार्मिक अनुष्ठान शुरू हुए।

प्राण प्रतिष्ठा के लिए चौदह जोड़े यजमान

प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए चौदह जोड़े यजमान बनाए गए हैं। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पत्नी जसमिन मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनकी पत्नी साधना गुप्ता, केंद्रीय मंत्री महंत नृत्यगोपाल दास और उनकी पत्नी, राज्यसभा सांसद महंत अखिलेश्वरनाथ और उनकी पत्नी, राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्यगोपाल दास त्रिपाठी और उनकी पत्नी, महासचिव चंपत राय और उनकी पत्नी, ट्रस्ट के सदस्यों और संतों के परिवारों के सदस्य शामिल हैं।

प्राण प्रतिष्ठा का विशिष्ट मुहूर्त

प्राण प्रतिष्ठा का विशिष्ट मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 29 मिनट से 12 बजकर 30 मिनट 32 सेकंड तक था। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामलला के श्रीविग्रह को गर्भगृह में स्थापित किया। इस अवसर पर हजारों श्रद्धालु मौजूद थे। सभी ने भगवान राम की जयघोष करते हुए उनका स्वागत किया।

आज से आमजन के लिए खुलेगा मंदिर

प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद आज से राम मंदिर आमजन के लिए खुल जाएगा। श्रद्धालु सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक मंदिर में दर्शन कर सकेंगे। मंदिर में प्रवेश के लिए श्रद्धालुओं को 100 रुपये का शुल्क देना होगा।

रामलला की मूर्ति

रामलला की मूर्ति मैसूर के फेमस मूर्तिकार अरुण योगीराज ने बनाई है। यह मूर्ति पांच धातुओं से बनी है। मूर्ति की ऊंचाई 51 इंच है। मूर्ति में भगवान राम को पांच वर्ष की आयु में दर्शाया गया है। उनके हाथ में धनुष है और उनके चेहरे पर बालक जैसी मासूमियत है।

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा एक ऐतिहासिक घटना है। यह हिंदू धर्म के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन प्रभु श्रीराम अपने भक्तों के बीच विराजमान हो गए हैं।

Leave a Comment