नौकरी के लिए दुबई-अबू धाबी जाना भारतीय प्रवासियों के लिए हुआ आसान, वीजा नियमों में किया गया बदलाव

भारत से विदेश नौकरी की तलाश में हजारों की संख्या में भारतीय कामगार जाते हैं। दुनिया के अबूधाबी और दुबई जैसे शहर हमेशा से ही भारतीय कामगारों को अपनी ओर खींचते रहते हैं। अब इन कामगारों के लिए एक बड़ी खबर सामने आई है।

ऐसे में यहां पर काम करने वाले नागरिकों को दुबई और अबू धाबी जैसी जगहों पर नौकरी करना काफी आसान हो जाएगा। वहीं यहां की नागरिकता लेने की ख्वाहिश दिल में बसाए हुए लोगों की भी इच्छा आराम से पूरी हो सकती है।

आपको बता दें कि संयुक्त अरब अमीरात की गवर्नमेंट ने  प्रवासियों को अपने यहां पर काम करने के लिए आकर्षित करने के खातिर नई नीति को मंजूरी प्रदान की है। यूएई के इस कदम से ना सिर्फ यूएई में नौकरी करने वालों के लिए रूल्स काफी अच्छे हो जाएंगे बल्कि नागरिकता लेने के रूल्स भी बदल जाएंगे।

वीजा के इन नियमों में किया गया बदलाव

संयुक्त अरब अमीरात की सरकार के अनुसार, यूएई में प्रवेश और निवास के लिए नए रूल्स को मंजूरी प्रदान की गई है। इसका सीधा सा उद्देश्य यह है कि दुनिया के तमाम देशों से प्रतिभाशाली और स्किल्ड लोग यूएई में आकर अपने श्रम के बलबूते देश को मजबूती प्रदान करें।

साथ ही यूएई में पहले से काम कर रहे लोगों और उनके पूरे परिवार के लोगों का भी भरोसा दोगुना होगा। इसके अलावा यूएई में रोजगार के क्षेत्र में कंपटीशन भी देखने को मिलेगा। यहां की सरकार पहली बार इस तरह का प्रयोग करने जा रही है। और सभी सिंगल वीजा मल्टीपल एंट्री के लिए उपलब्ध होंगे। आपको बता दें कि ये वीजा अब 60 दिनों तक वैध रहेगा। और इसके बाद उन्हें अगले 60 दिनों तक के लिए रिन्यूअल भी कराया जा सकता है।

जॉब एक्सप्लोरेशन एंट्री मिलेगी, देना होगा इस बात का प्रूफ

दुबई

यूएई में नौकरी करने वालों को जॉब एक्सप्लोरेशन एंट्री वीजा की भी फैसिलिटी भी मिलेगी। इसके अंतर्गत फर्स्ट, सेकंड और थर्ड लेवल पर कौशल रखने वाले लोगों को वीजा मुहैया कराया जाएगा। इसके लिए शर्त यह होगी कि संबंधित व्यक्ति के पास कम से कम बैचलर या इसके समकक्ष डिग्री होनी चाहिए।

मान लीजिए अगर कोई व्यक्ति लंबे समय के लिए टूरिस्ट वीजा चाह रहा है तो उसे 5 साल का मल्टी एंट्री टूरिस्ट वीजा प्रदान किया जाएगा। इसकी खातिर किसी स्पांसर की भी आवश्यकता नहीं पड़ेगी। उन्हें सिर्फ इस बात का प्रूफ देना होगा कि उसके बैंक अकाउंट में न्यूनतम $4000 की राशि की है।

बदल गए हैं नागरिकता के नियम

संयुक्त अरब अमीरात की सरकार ने गोल्डन रेजिडेंसी स्कीम के रूल्स को काफी आसान बना दिया है। नई नीति के अनुसार यूएई की सरकार इन्वेस्टर्स, स्टूडेंट, एंटरप्रेन्योर,साइंटिस्ट और प्रोफेशनल के अतिरिक्त शानदार प्रदर्शन करने वाले स्टूडेंट्स और ग्रेजुएट सहित असाधारण प्रतिभा रखने वाले लोगों को 10 साल की नागरिकता देगी।

इसके अतिरिक्त अगर कोई विदेशी यूएई की नागरिकता लेने की चाह रखता है तो उसे 20 लाख दिरहम यानी कि भारतीय रुपयों में तकरीबन चार करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी खरीद कर वहां का नागरिक बन सकता है।

Leave a Comment