दुबई की एक कंपनी में बना MD, सैलरी मिलने के एक दिन पहले हो गई मौ’त, अब भारत लाया गया पार्थिव शरीर

नौकरी के सिलसिले में तकरीबन 1 साल से भी अधिक समय पहले दुबई गए एक युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौ’त हो गई है। पंजाब के फिरोजपुर कैंट का एक युवक टूरिस्ट वीजा पर दुबई गया था।

वहां पर उसने एक बांग्लादेशी नागरिक के साथ मिलकर एक कंपनी बनाई थी और गुरप्रीत सिंह नाम के इस युवक को कंपनी में बतौर एमडी खास जिम्मेदारी मिली थी।

लेकिन काम शुरू किए हुए लगभग एक महीना ही हुआ था और गुरप्रीत को पहली सैलरी के तौर पर 4 लाख रुपए मिलने थे। 6 जुलाई को उसे तनख्वाह मिलने की और 5 जुलाई को उसकी हार्ट अटैक से मौ’त हो गई।

टैक्स चुकाकर बढ़वाई थी वीेजा को अवधि

युवक के परिवारीजनों ने बताया कि 35 वर्षीय गुरप्रीत सिंह तकरीबन सवा साल पहले नौकरी की तलाश में दुबई गया था। उस युवक का वीजा टूरिस्ट वीजा था। ऐसे में उसने टैक्स अदा करके अपनी वीजा की अवधि बढ़ाई थी।

ये भी पढ़ें- UAE Labour Law: सार्वजनिक छुट्टी में अगर कोई कामगार करता है काम तो क्या है अधिकार, जानिए यहां

दुबई में रहते हुए गुरप्रीत सिंह ने कम समय में अधिक मेहनत करके बांग्लादेश के एक युवक (जो अब वही का निवासी है) के साथ मिलकर एक कंपनी बना ली थी। इसके लिए उसने दुबई की सरकार को टैक्स भी चुकाया था। कंपनी बनने के बाद गुरप्रीत सिंह को एमडी पद की जिम्मेदारी संभालने का मौका मिला था।

6 जुलाई को मिलनी थी तनख्वाह और 5 जुलाई को हो गई मौ’त

मृतक गुरप्रीत सिंह के परिजनों ने बताया कि कंपनी को शुरू हुए लगभग अभी एक महीना ही पूरा हुआ था। और 6 जुलाई को उसको पहली तनख्वाह मिलने थी, लेकिन उसके पहले ही दिल का दौरा पड़ने से उसकी मौत’ हो गई। गुरप्रीत तीन बहनों में अकेला भाई था। उसकी तीन बहनों में एक दुबई में रहती है जबकि दो बहने भारत में रहती हैं।

इस तरह भारत लाया गया गुरप्रीत का पार्थिव शरीर

सरबत दा भला ट्रस्ट के संस्थापक और दुबई के जाने-माने व्यापारी डॉक्टर एसपी ओबरॉय के प्रयासों द्वारा पंजाब के फिरोजपुर के रहने वाले युवक गुरप्रीत सिंह का पार्थिव शरीर भारत लाया गया। बीते रविवार को गुरप्रीत सिंह का पार्थिव शरीर दुबई से श्री रामदास जी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर फ्लाइट से लाया गया।

आपको बताते चलें कि गुरप्रीत सिंह के माता-पिता ने सरबत दा भला ट्रस्ट के संस्थापक डॉ एस पी ओबरॉय से अपने बेटे का पार्थिव शरीर भारत लाने की गुहार लगाई थी। एसपी ओबरॉय ने जानकारी देते हुए बताया कि गुरप्रीत सिंह परिवार की आर्थिक हालत सुधारने के लिए दुबई गया था। लेकिन कमाने से पहले ही युवक की मौ’त हो गई।

ये भी पढ़ें- UAE में आज जारी हुए कोरोना के ताजा आकंड़े, जानिए कितने सामने आए नए मामले और कितने लोग हुए ठीक

Leave a Comment