दुबई में भारतीय प्रवासी ने पेश की ईमानदारी की मिसाल, पुलिस को लौटाए मिले हुए 1 मिलियन दिरहम की राशि

दुबई में एक भारतीय प्रवासी को उसकी ईमानदारी के लिए सम्मानित किया गया है। दरअसल, दुबई में भारतीय प्रवासी को इमारत की लिफ्ट में Dh1 मिलियन नकदी मिली और इसे पुलिस को सौंप दिया। पुलिस बल के शीर्ष अधिकारियों ने अब उन्हें उनकी ईमानदारी के लिए सम्मानित किया है।

वहीं दुबई पुलिस ने कहा कि प्रवासी तारिक महमूद खालिद महमूद ने अल बरशा में अपने आवासीय भवन में 1 मिलियन दिरहम नकद पाए और उन्होंने ये राशि पुलिस को सौंप दी जिसके बाद उसे उसकी ईमानदारी के लिए सम्मानित किया गया।

अल बरशा पुलिस स्टेशन के निदेशक ब्रिगेडियर अब्दुल रहीम बिन शफी ने कहा कि तारिक ने थाने में राशि सौंप दी। उनकी नैतिकता हमारे समाज के उन महान मूल्यों का प्रतिनिधित्व करती है जिन पर हमें बहुत गर्व है।

इसी के साथ ब्रिगेडियर बिन शफी ने तारिक को प्रशंसा प्रमाण पत्र से सम्मानित किया और समुदाय और पुलिस के बीच सहयोग के महत्व पर जोर दिया। पुलिस ने प्रवासी के हवाले से कहा कि सम्मान ने उसे “बहुत गर्व और खुशी” दी।

गौरतलब है कि इससे पहले फिलीपींस के पांच वर्षीय निगेल नेर्स ने अल कुसैस में मिली 4,000 नकद राशि सौंपी और अप्रैल में पुलिस से एक प्रमाण पत्र प्राप्त किया। वहीं एक ही महीने में, आठ निवासियों को सम्मानित किया गया, जब उन्होंने अलग-अलग उदाहरणों में खोई हुई Dh55,000 से अधिक नकद वापस कर दी। वहीं अल कुसैस में पुलिस ने दुबई के एक टैक्सी ड्राइवर, अब्दुलरहीम ज़ोमिदिएर राजीव को सम्मानित किया, जब उसने एक यात्री द्वारा भूले गए कुछ नकदी, आधिकारिक दस्तावेजों और पासपोर्ट के साथ एक हैंडबैग सौंप दिया।

वहीं मार्च में, पुलिस अधिकारियों ने एक छात्र को लुलु गांव में मिले बटुए को सौंपने के बाद उसे सम्मानित करने के लिए स्कूल जाकर उसे आश्चर्यचकित कर दिया। इसी के साथ फरवरी में, एक अरब नागरिक, इब्राहिम मोहसेन हमद ने अल कुसैस में पाए गए Dh15,000 को वापस कर दिया।

आपको बता दें, दुबई पुलिस नियमित रूप से ईमानदार निवासियों को सम्मानित करती है जो खोई हुई नकदी या कीमती सामान सौंपते हैं। इस साल कई मामले सामने आए हैं।

Leave a Comment