skip to content

आसानी से पता कर सकते हैं GOLD के ज्वैलरी की प्योरिटी, जानें कैसे चेक करें कितना असली है आपको सोना

देश में GOLDकी खरीदारी त्यौहार या फिर शादियों की सीजन में जमकर की जाती है। हजारों साल लंबी देश की संस्कृति की इतिहास में इस बात के प्रमाण मौजूद हैं कि सोने की खरीदारी अक्सर शुभ कार्यों के अवसरों पर की जाती रही है। इसी कड़ी में यह प्रथा निरंतर जारी है। दूसरी तरफ त्योहारों और शादियों के शुभ अवसरों के अलावा अब लोग सोने में निवेश करके उज्जवल भविष्य की भी तलाश कर रहे हैं।

ऐसे में इस बात की महत्ता बढ़ जाती है कि आप जो सोना खरीद रहे हैं वह असली है या नकली। इस बारे में लोग अधिक चिंतित भी रहते हैं। ऐसे में इस आर्टिकल के जरिए हम कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप सोने की शुद्धता के बारे में आसानी से जान सकते हैं।

हॉलमार्क की मदद से करें सोने की पहचान

देश के अंदर सोने की पहचान करने के लिए भारतीय मानक ब्यूरो के मुताबिक हालमार्किंग के जरिए आप सोने की शुद्धता के बारे में आसानी से पता कर सकते हैं। हॉल मार्किंग किसी भी सामान की शुद्धता की गारंटी के रूप में उपयोग किया जाने वाला चिन्ह है।

अगर आप द्वारा खरीदे गए सोने के आभूषण में हॉलमार्क का निशान बना है तो आप मानिए कि आपका सोना पूरी तरह से शुद्ध है। मान लीजिए कि आप कोई आभूषण खरीद रहे हैं और उस पर हॉलमार्क का निशान है तो वह पूरी तरह से शुद्ध माना जाता है। बीआईएस एक्ट के अनुसार सोने का चांदी के आभूषणों की हॉलमार्किंग अब पूर्णता अनिवार्य हो चुकी है।

मान लीजिए कि आप हॉल मार्क के अनुसार 23 K गोल्ड का कोई आभूषण खरीद रहे हैं तो इसका सीधा सा अर्थ यह हुआ कि 100 ग्राम में तकरीबन 50 ग्राम शुद्ध सोना है और बाकी के शेष बचे 5% में अन्य धातुओं का मिश्रण है।

सोने और चांदी की गहनों पर हॉलमार्किंग हो गई है

आपको बताते चलें कि देश के अंदर गोल्ड और सिल्वर की ज्वेलरी पर हॉलमार्किंग करना अनिवार्य कर दिया गया है। बीआईएस एक्ट 2018 की धारा 49 के अनुसार, अगर कंज्यूमर द्वारा खरीदे गए हॉल मार्क युक्त आभूषण पैमाने से कम शुद्ध पाए गए हैं तो ग्राहकों को उसके बदले में मुआवजा मिलेगा। यह अंतर की गणना की गई राशि का दोगुना हो सकता है।

साथ ही 6 अंकों का एचयूआईडी(HUID) को 1 जुलाई 2021 को पेश किया गया‌ था। और इस तारीख के बाद हॉलमार्क किए गए सभी लेखों को सिर्फ एच यू आई डी के साथ हॉलमार्क किया जाना है।

एच यू आई डी की शुरू होने के बाद हॉल मार्क के अंदर तीन अंक थे। बी आई एस लोगो और 6 नंबरों का अल्फान्यूमैरिक एच यूआईडी। प्रति हॉल मार्क वाले आभूषण का एक विशिष्ट एक यूआईडी नंबर होता है। इसके बारे में पता किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें :दुबई पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई, रमजान में भीख मांग रहे 25 लोगों को किया गिरफ्तार

डिजिटल जमाने में इस ऐप के जरिए जांच सकते हैं सोने की शुद्धता

सोने की खरीदारी करने वाले ग्राहकों के लिए बीआईएस केयर ऐप में वेरीफाई आईडी का उपयोग करने की सुविधा दी गई है। इसकी मदद से आप हॉल मार्क वाले सोने के आभूषणों की जांच कर सकते हैं। ‌

‘बीआईएस केयर ऐप’ अब एंड्रॉयड फोन के साथ आईओएस में भी उपलब्ध है। यह सोने के विक्रेता की जानकारी भी देता है। जिसने वस्तु को होल मार्क करवाया है। उनकी रजिस्ट्रेशन संख्या, प्योरिटी वस्तु के प्रकार के अतिरिक्त हॉलमार्किंग सेंटर की भी जानकारी देता है।

बगैर हॉलमार्क वाले आभूषणों की कैसे करें परख

मान लीजिए कि यदि आपके पास हॉलमार्क वाले गहने है तो आप आराम से उनकी जांच कर सकते हैं। लेकिन यदि किसी साधारण ग्राहक के पास बगैर हॉल मार्क वाले आभूषण हेतु उसके लिए यह सुविधा दी गई है कि वह सोने के आभूषणों की जांच के लिए बीआईएस से मान्यता प्राप्त किसी भी जांच सेंटर और हाल मार्किंग केंद्र में सोने की गुणवत्ता के बारे में जानकारी हासिल कर सकता है।

ये भी पढ़ें :दुबई से कोई प्रवासी महिला या पुरूष कितना सोना ला सकता है भारत? आखिर क्या है यूएई में सोने के दाम